रखदो चटके शीशे के आगे मन का कोई खूबसूरत कोना ,यह कोना हर एक टुकड़े में नज़र आये गा |

यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 1 जून 2010

एक प्रश्न


दिन :सोमवार
समय :सुबह के दस बज के तीस मिनट
इंडिया टी वी पर एक समाचार आ रहा था कि बारह साल के एक बच्चे को चोरी के इल्जाम में पकड़ के उसे एक पुलिस वाले ने खूब पीटा  और उसके ही सामने उसकी माँ को निर्वस्त्र किया  |ये जहर का घूंट नही है तो और क्या है ? क्या ये घटना सिर्फ एक हादसा है ?

9 टिप्‍पणियां:

  1. लालू ओर माया सरे आम चोरी करते है ओर यही पुलिस इन्हे सलाम बजाती है, अरे चोर बनो तो तंगडे... लानत है इन पुलिस वालो पर जो गरीब को मारते है ओर इन नेताओ के कुत्ते बने फ़िरते है

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये हादसा नहीं हमारे मुह पर तमाचा है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुखद यह है की ऎसी घटनाएं कभी अखबार की हेड लाइन नहीं बनतीं.... साफ़ टूर पर तय हों चुका है की हम इंसान नहीं रह गए हैं ... आपने बड़ा मुद्दा रखा है राज ... यह हादसा नहीं बेशर्मियों का खुलासा है......

    उत्तर देंहटाएं
  4. kabhi kabhi ghatnaayen kai sawal utha jaate hayn..ham sabhi ke sath aisi ghatnaayen ghat sakti hay kayon ki kahin na kahin logon me samvednaaon ki kami aa gayi hay.mere dimag me ek hin prashan aata hay...ek insan ek insan ke sath istarah kaise pesh aa sakta hay....? aur agar aisa kar leta hay to wo insan kaise hay..?

    उत्तर देंहटाएं
  5. raj saheb nilesh , ji pragya ji , arshad bhai smvednhinta shrmnak hai our iska purjor viradh hona chahiye . aap sbhi ke vicharo se bl mila . bhut bhut dhnyvad .
    arshad bhai kha the aap ? aap hmare phle blog bhai mitr avm pthprdrshk hai is nate aapki anupsthiti cintniy thi .

    उत्तर देंहटाएं
  6. बातें दोंनों है..राजवन्त जी..एक तो आपको टी .वी पर जो दिखाते हैं उसीको सच नहीं
    मान लेना चाहिये । दूसरे शायद आपने पुलिस के कार्य और परेशानियों को शायद
    करीब से महसूस नहीं किया..मेरा अब तक का इस क्षेत्र का अनुभव कहता है कि
    अगर आपका व्यवहार ठीक है तो पुलिस अक्सर क्रूर और असभ्य व्यवहार नहीं
    करती । आप कभी मलिन बस्ती के बारे में स्व अनुभव करें कि पैसे की अन्धी चाह
    में इनके आठ साल ( बारह तो बहुत ज्यादा है ) के बच्चे , जवान लङकियाँ और
    औरतें ..मर्द कितने अनैतिक कार्य करते है..दूसरे ये लोग ढीट किस्म के हो जाते हैं
    इसलिये please..टी .वी से उठकर कभी सच्चाई को पास से देखे..कि आज क्या
    हालात हो रहे हैं..
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. rajiv ji aapne bhut imandari se apni bat rkhi . mai uska dil se swagt krti hu . kirn bedi meri aadrsh rhi hai , pure police mhkme se mujhe koi sikayt nhi hai agr shikayt hai to glt action se our mai pure vishwas se yh kh skti hu ki kirn bedi ko bhi is action pr skht aitraj hoga .
    dusri bat jha tk chori ka swal hai to duniya ka koi kanoon ye nhi khta hai ki chor ke samne uski ma, bhn , beti ke kpde utar kr use shrmsar kro .
    tesri bat mlin bstiyo me hone wale anaetik vyvhar our apradh ki to unki chori pet ki chori hai unke bare me kya kha ja skta hai jo attlikao me rhte hai , pnchsitara hotlo me khate hai our apne desh ke sath gddari krte huye eman ki chori krte hai .
    pap se ghrina kro
    papi se nhi
    mai khti hun ki ...
    pap ko sudharo
    papi ko sta ke nhi
    thanks .

    उत्तर देंहटाएं
  8. ma'm ab india TV ki khabar pe post likhengi?
    Chodo ma'm inki news ki gambhirta dekhni hai to inke kuch krykramo ke naam sune:-
    " naag ka badla "
    "swarg ki sidi"
    "jubi dubi indian idol"
    "aatma ka sach"
    Aur jane kya kya.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. joshiji nag ka bdla ,aatma ka sach ,swarg ki sidi koi smvednshil mudde nhi hai. manvta ka tkaja hai achchhi bat ki prshnsha ek bar na kro koi bat nhi usse us achchhi bat ka vjn km nhi hoga mgr kroor our atyachar ke khilaf ydi socha bhi nhi gya to hmare smaj ka our bhi naitik ptn hoga .
    maine to sirf ek prshn puchh tha ''kya ye ghtna sirf ek hadsa hai '' ?

    उत्तर देंहटाएं