रखदो चटके शीशे के आगे मन का कोई खूबसूरत कोना ,यह कोना हर एक टुकड़े में नज़र आये गा |

यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 24 जुलाई 2010

जरूरत

जिन्दगी से हमे कितना चाहिए और  क्या  चाहिए
ये इतना मायने नही रखता  जितना की
जिन्दगी से मुझे क्यों  चाहिए और  कैसे चाहिए
ये मायने रखता है |


कितना चाहिए की कोई सीमा नही ,
 क्या चाहिए का कोई अंत नही
क्यों चाहिए में एक वजह है
कैसे चाहिए में एक वजन है |


हम पाते है खुश हो जाते है
रम जाते है थम जाते है
क्यों और कैसे को साथ रखे तो
निष्क्रिय होने से बच जाते है | ,

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया , चीजों को साफ़ सुथरा देखने का दृष्टिकोण इसी तरह विकसित होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों चाहिए में एक वजह है
    कैसे चाहिए में एक वजन है |

    वाह... अगर हम सब इस नीति को अपनाये, तो सभी सुखी हो जाये, बहुत ही सुंदर ओर सुलझी हुयी रचना. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. achchha lgta hai jb koi kuchh khna chahe our use usi roop me pathk grahy kre .
    thank you very much .

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्यों और कैसे को साथ रखे तो
    निष्क्रिय होने से बच जाते है |
    सटीक बात ....आभार

    उत्तर देंहटाएं