रखदो चटके शीशे के आगे मन का कोई खूबसूरत कोना ,यह कोना हर एक टुकड़े में नज़र आये गा |

यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, 19 नवंबर 2010

खामोश सवाल

 एक ----
वो जो कोई बात 
तेरे दिल से निकले 
और मेरे दिल तक पहुंचे ,
क्षत विक्षत होकर ,
तो दोष किसका ? 
तुमने भेजा लापरवाह होकर
या मैंने लपका बेपरवाह होकर ? 

दो ----
समंदर पर बरखा क़ी बूँद 
और दिल उदास 
तो मन क्या सोचेगा ?

तीन ----
आओ तुम्हे तुम से मिलाएं 
क़ी तुम्हे क्यूँ लगता है 
क़ी तुम गुम हो गई हो ? 

चार ----
बगैर किसी फलसफे के
 तुम्हे 
तुम्हारी जिल्द के साथ 
जो मै पढना चाहूँ 
तो क्या ये मुमकिन है ? 

23 टिप्‍पणियां:

  1. Rajwant didi,
    वो जो कोई बात
    तेरे दिल से निकले
    और मेरे दिल तक पहुंचे ,
    क्षत विक्षत होकर ,
    तो दोष किसका ?
    तुमने भेजा लापरवाह होकर
    या मैंने लपका बेपरवाह होकर ?
    ek sachchai ko bayan karta hay...aisi isthiti me laparwahi kisi ek ki ho aisa nahi ho sakta..aise bhi kaha jata hay tali hamesha ek haath se nahi bajti.
    aapki lekhni ek samjhdaar lekhni hay..jisme shabdon ka jadu chal jata hay.

    Didi mere naye blog par aapka hastakshar ho jaaye to margdarsan milega..

    dadikasanduk.blogpost.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह..सभी के सभी भावपूर्ण और प्रभावशाली !!!!

    बहुत बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  3. छोटी कविताएं लेकिन बहुत विस्तृत और गहन अर्थों वाली।
    इन बेहतरीन रचनाओं के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो जो कोई बात
    तेरे दिल से निकले
    और मेरे दिल तक पहुंचे ,
    क्षत विक्षत होकर ,
    तो दोष किसका ?
    तुमने भेजा लापरवाह होकर
    या मैंने लपका बेपरवाह होकर ?

    बहुत खूब ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. चारो नज़्म बेहद गहरे भाव लिए हुए ...मन को छू गयी .

    उत्तर देंहटाएं
  6. अजी मन में इच्छा हो तो सब कुछ मुमकिन है
    बेहद सशक्त लेखन ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. जी हाँ बिना फलसफे के पढ़ना मुमकिन हैं.
    और किसी को उसी से मिला देना तो पुन्य का काम है..चलिए शुरू की जिए हम से ही. :):)

    अच्छी क्षणिकाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. .

    तुमने भेजा लापरवाह होकर
    या मैंने लपका बेपरवाह होकर ? ...

    wonderful creation !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. तो दोष किसका ? तुमने भेजा लापरवाह होकर या मैंने लपका बेपरवाह होकर ?
    गज़ब!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बगैर किसी फलसफे के
    तुम्हे
    तुम्हारी जिल्द के साथ
    जो मै पढना चाहूँ
    तो क्या ये मुमकिन है ?
    आह! क्या खूब ख्याल है सीधा दिल पर वार करता है……………बेहद सुन्दर क्षणिकायें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. वो जो कोई बात
    तेरे दिल से निकले
    और मेरे दिल तक पहुंचे ,
    क्षत विक्षत होकर ,

    अक्सर शब्द अपने अर्थ बदल देते हैं ....सभी क्षणिकाएं गहन अर्थ रखती हुई

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह क्या बात है ... हरेक क्षणिका बेहद सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. हम सभी बेपरवाह हैं तभी संभवतः संसार में अशान्ति मची पड़ी है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. अब समंदर पर बरस ही गया कोई...
    तो न 'मन' ही कुछ कर सकता
    और न 'दिल' के ही बस मे कुछ !!!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. बगैर किसी फलसफे के
    तुम्हे
    तुम्हारी जिल्द के साथ
    जो मै पढना चाहूँ
    तो क्या ये मुमकिन है..... waah

    उत्तर देंहटाएं
  17. arshad , rnjna ji , mhendra ji , hrkeeratji ,upndr , rchna ji , anamika , divya , vandna , sangeeta di , prveen susheela ,rashmi di,indrneel sanjay aap sbhi ka aabhar .
    vichar vimarsh ke is khule manch me aap sbhi ka sdaiv swagat rhega .

    उत्तर देंहटाएं
  18. तुमने भेजा लापरवाह होकर
    या मैंने लपका बेपरवाह होकर ? खामोशियाँ पानी के दर्पण की तरह पारदर्शी होती हैं !तमाम गलत फहमियों के बावजूद सम्भावना है अभी ...बाकी...कुछ है अभी ! राज ! आपको बहुत बहुत बधाई ! अनकहा कह डालती हैं आप !!

    उत्तर देंहटाएं
  19. ब्लॉग या वेबसाइट से कमाओ हजारो रुपये...

    To know more about it click on following link...

    http://planet4orkut.blogspot.com/2010/08/blog-post_9159.html

    उत्तर देंहटाएं